BILLI KI JER – असीम धन पाने की लालसा है तो करें ये तंत्र शास्त्र के ये अचूक उपाय, जानिये पूजन और सिद्ध करने की विधि

Tantraveda.net buy buttonBuy Genuine Billi Ki Jer Online, visit the following link:
http://tantraveda.net/billi-ki-jer


बिल्‍ली की जेर

मान्‍यता है कि बिल्‍ली की जेर से घर में धन का आगमन होता है। तांत्रिक उपायों में धन प्राप्‍ति के लिए बिल्‍ली की जेर का प्रयोग किया जाता है। कहते हैं कि बिल्‍ली की जेर पर मां लक्ष्‍मी की कृपा होती है और ये जिसके पास हो उसे जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होती।
क्‍या होती है बिल्‍ली की जेर

बिल्‍ली के प्रसव के समय बिल्‍ली एक प्रकार की थैली का त्‍याग करती है जिसे आंवल की जेर भी कहते हैं। सभी पशुओं में केवल बिल्‍ली ही ऐसी है जो तुरंत अपना आंवल खा जाती है। यदि किसी तरह बिल्‍ली का ये आंवल प्राप्‍त कर लिया जाए तो इसका तांत्रिक प्रभाव आपके घर में धन-धान्‍य की वृद्धि कर सकता है।


कैसे करें बिल्‍ली की जेर की पूजा

सबसे पहले बिल्‍ली की जेर की शुद्धता की जांच कर लें। असली बिल्‍ली की जेर की ही पूजा करें। इसकी पूजा गुरुवार के दिन ही करनी चाहिए। गंगाजल में बिल्‍ली की जेर डालकर निकालें, इससे यह शुद्ध हो जाएगी। अब एक लाल रंग के वस्‍त्र पर बिल्‍ली की जेर रख दें। अब इसके सामने घी या तेल का एक दीपक जलाएं। बिल्‍ली की जेर पर कुमकुम और केसर का तिलक लगाएं। इसके पश्‍चात् फूल और चावल अर्पित करें। संभव हो तो बिल्‍ली की जेर पर कामाख्‍या सिंदूर लंगाकर इसे डिब्‍बी में बंद कर के रख दें। पूजन करते समय || ‘ऊं श्रीं उलूक मम कराया कुरु कुरु नमः’|| मंत्र का जाप करें। अब इस लाल कपड़े को लपेटकर आप अपनी तिजोरी या धन रखने के स्‍थान पर रख दें।
लाभ

बिल्‍ली की जेर राहु, मंगल और शुक्र के हानिकारक प्रभाव को दूर करने में बहुत फायदेमंद है। यह वित्तीय शक्ति प्रदान करती है। तंत्र शास्‍त्र का ये चमत्‍कारिक उपाय सिर्फ मनुष्‍य के हित और कल्‍याण के लिए बनाया गया है।
कहां से लें

आप बिल्‍ली की जेर www.tantraveda.net से भी ऑर्डर कर सकते हैं। बिल्‍ली की जेर को आपके पास हमारे अनुभवी पंडितजी द्वारा तंत्र मंत्रों से अभिमंत्रित कर भेजा जाएगा। अभिमंत्रित यानि एनर्जाइज़ करने के बाद आपको बिल्‍ली की जेर के तुरंत और दोगुने फल प्राप्‍त होंगें।

Buy Genuine Billi Ki Jer Online, visit the following link:
http://tantraveda.net/billi-ki-jer